एक रात

एक रात एक सपने ने ठिठुरते हुए कहा,

एक चादर अपने लिए भी ले आता यार|

Advertisements