English Poetry · Writing Prompts

God’s Home

Does God only work in certain buildings?

Buildings with 20-feet walls which have inscription of His own stories

Do you really think He is so self-obsessed?

Buildings that have pillars craved with women bowing down at the entrance

Do you really think He is a misogynist?

Buildings that doesn’t let certain section of society to enter based on their caste, creed, religion or gender

Do you really think He is a bigot?

Think harder

Is He really so self-obsessed, misogynist and a bigot or

The builders of these places are

For God…

I think He loves to work from home

And His home is every heart that has ‘Kindness’ inscribed on it

Hindi Poetry

जान और संसद

एक आदमी
जान से मर रहा है
एक आदमी जान बचा रहा है
एक तीसरा आदमी भी है
जो ना जान बचाता है, ना कोशिश करता है
वह सिर्फ़ दूसरों की जान से खेलता है
मैं पूछता हूँ–
‘यह तीसरा आदमी कौन है ?’
मेरे देश की संसद मौन है।

  • धूमिल की कविता रोटी और संसद से प्रेरित
Writing Prompts

टफी जी और लॉकडाउन

नेताजी की पत्नी जब ब्याह कर आयी तो अपने संस्कारों का प्रमाण पत्र, टफी जी के रूप में लेकर आई । एक बहुचर्चित फिल्म के कारण दुनिया के सारे ‘टफी’ सबसे संस्कारी कुत्ते कहलाने लगे थे। उस फिल्म के हीरो को भी जानवरों से खूब प्यार था। खैर वो तो किसी और दिन की बात है। अभी आते हैं टफी जी पर, जिनको नेताजी अपने बच्चे से ज़्यादा चाहते थे, अब बच्चा तो आगे या पीछे अब्रॉड ही सैटल होने वाला था, टफी जी ही नेताजी के श्रवण कुमार थे इसलिए उनकी खिदमत बिलकुल राजकुमारों जैसे होती थी। उनके खाने का मासिक खर्च नौकर की सैलरी से दुगना था। टफी जी को भी अपने मम्मी डैडी की सेहत का खूब खयाल था, इसलिए उन्होंने भौंक भौंक कर बंगले की पीछे की जमीन पर टेहलने के लिए एक बाग़ बनवाया, जो सरकारी कागजों में कोई स्कूल बनाने के लिए अलॉट हुई थी। खैर स्कूल बनाके किसने चुनाव जीता है?…टफी जी हाई मेनटेनेंस की चरम सीमा पर मूतते थे, वे टांग उठाते भी थे तो सिर्फ सरकारी गाड़ी के टायर के सामने या सरकारी जीप की सीट पर। एक बार तो भूचाल ही आ गया था जब टफी जी ने सीट पर किसी हरे पट्टे वाले कुत्ते की बू सूंघ ली। ड्राइवर की नौकरी तो गई ही, पर सारी मीडिया के सामने एक शुद्धिकरण की पूजा भी कराई गई।

एक दिन टफी जी को बाग़ में घूमते हुए एक छिंक आई और नेताजी ने अपने इलाके में लॉकडाउन की घोषणा की। लॉकडाउन में सबसे पहले तो नेताजी ने सारे हरे पट्टे वाले कुत्तों को मोहल्ले से भगाया। फिर टफी जी को नाश्ते में वो काजग खिला दिए जो पांच हफ्ते पहले WHO से आए थे। एक तरफ नेता जी ने आवारा कुत्तों की मदद के लिए योजना तैयार की और दूसरी तरफ टफी जी को इन्फ्लूंसर बनाने की प्रक्रिया शुरू हुई। एक तरफ फंड आते गए, दूसरी तरफ टफी जी लोगों को डोग हाउस बनाना सीखाते गए। जब PPE kit नेता जी के पास पहुंचे तो एक एन९५ मास्क टफी जी के भी हिस्से आया, बहुत से डॉक्टर्स के पहले। देश के सबसे बड़े न्यूज चैनल ने टफी जी का एक्सक्लूसिव इंटरव्यू लिया पर बीच इंटरव्यू में उन्हें लघू शंका हुई और वह बाग़ की तरफ भागे जहां नेताजी की नई मूर्ति बन रही थी, बस फिर क्या था टफी जी ने टांग उठाई और…

Writing Prompts

मध्य प्रदेश और कोरोना

कहानी शुरू होती है दिल्ली से
जब नेताजी ने विधायकों की बोली लगाई
और टीवी पर बोले, ‘कोरोना वोरोना कुछ नहीं होता’
सियासी मूजिकल चेयर में
जनता का तानपुरा बजना शुरू हुआ
दूसरी तान दी,
वॉट्सएप यूनिवर्सिटी से पीएचडी करने वाले लोगों ने जिन्होंने २०२० में ना जाने कौनसा वर्ल्ड कप जीता
तीसरी तान दी मौलवी ने
जिसने धर्म की ऐसी गलत पट्टी पढ़ाई
की टिकटोक भाग्यविधता बन गया
और जाहिलों ने डॉक्टर पर पत्थरबाजी शुरू कर दी
और आखिर में सबसे ऊंची तान दे रहे है
स्वास्थ के व्यापारी जो इस खतरे के समय भी
टेस्टिंग की गति बढ़ाने के बजाए
व्यापम के एहसान गिना रहे हैं
और लोगों की जान को धंधा समझ बैठे हैं,
इस मूर्खता के शोरगुल के बीच
मेडिकल स्टाफ, सफाई कर्मचारी, पोलिस
मजदूरों को खाना पहुंचाने वाले लोग
पीपीई किट वितरण करने वाले लोग
और आप सब जो घर में बैठें हैं
उन्हें मैं प्रणाम करता हूं
एक दूसरे का ख्याल रखें
ज़ी न्यूज़ हटाकर ज़ी सिनेमा देखें
वॉट्सएप पर मूर्खता से दूर रहें
और हाथ धोते रहें।

English Poetry · Writing Prompts

Heart Inc.

When we are in love
With oneself or someone else
There are some workers in our heart
Who process everything we feel
Into a thing of beauty
But when our heart is broken
Does these workers go on a lockdown
Does the creation of beauty comes to a halt
Not really,
It just slows down
As the workers now divide
One half keep creating beauty
Stimulated by
Memes sent by friends
While the other half
The experienced ones
Discover dingy pathways
Inside our heart
Where fear feeds on hate
And start cleaning it with tears
And a bucketful of ice-cream
This bigger the heart,
The more time it takes to cleanse it
And sooner or later
The ones creating beauty
Feel someone
It can be him or her
Or a newer version of self
Who lights up those dingy pathways
With just a smile
So that the experienced ones
Return to what they do best
Creating beauty

Hindi Poetry

राम रामलाल

वह चला था चौदह बरस तक
अब उसे तुम चार दिवारी में बंद कर
उसके नाम पे लड़ कर धंधा खोलना चाहते हो
और उसे धर्म बताते हो
जब कर रहे हो उसका १००८ बार गुणगान टीवी के सामने
कोई रामलाल पैदल ही जा रहा है १००८ किलोमीटर अपने परिवार के पास
तुम पूछते हो मैं तो घर में बैठकर क्या कर सकता हूं
मैं कहता हूं खोल दो उसके लिए मंदिर के दरवाज़े
और बिताने दो रामलाल को कुछ रात वहां
मगर तुम फिर तपाक से कहोगे
हमारा मंदिर अपवित्र हो जाएगा
पवित्रता का दोगुलापन कहीं और दिखाना
उस रामलाल ने ही तुम्हारे मन्दिर को ईंट पत्थर जोड़ कर बनाया है